SURVEY AND RESEARCH

आर्थिक सर्वे से पहले भारत के बारें में ये 5 चीजें शायद आप नहीं जानते होंगे

Jan, 1 1970

संसद में शुक्रवार को पेश आर्थिक सर्वें में ऐसी कई चीजें शामिल हैं, जो आप तौर पर आर्थिक चर्चा का हिस्सा नहीं होती हैं. उदाहरण के लिए, उद्यमियों को बॉलीवुड फिल्म से क्या सीखने की जरूरत है? दूसरा, क्या आप जानते हैं कि भारत में पिस्तौल खरीदने के मुकाबले रेस्टोरेंट खोलने के लिए ज्यादा एप्रूवल लेने पड़ते हैं.

आज चीफ इकनॉमिक एडवाइजर के सुब्रमण्यन के आर्थिक सर्वे पेश करने के बाद उपर्युक्त तथ्य इंडियन इकनॉमिक ग्लोसरी का हिस्सा बन गई हैं. यहां आपको ऐसी पांच चीजें बता रहे हैं.


1. मोदी अब भी बढ़ा सकते हैं नौकरी

सर्वे के मुताबिक, मोदी सरकार 'एसेंबल इन इंडिया फॉर द वर्ल्ड' को 'मेक इन इंडिया' से जोड़ सकती है. इससे वैश्विक व्यापार में भारत की हिस्सेदारी बढ़ाने के अलावा देश में 2030 तक अच्छी सैलरी वाली 8 करोड़ नौकरियां पैदा हो सकती हैं.

2. बैंड बाजा बारात
आर्थिक सर्वे के अपने प्रजेंटेशन में के सुब्रमण्यन ने बॉलीवुड फिल्म 'बैंड बाजा बारात' का जिक्र किया. इस फिल्म में उद्यम शुरू करने के नए आइडिया का इस्तेमाल करते दिखाया गया है. उन्होंने इस फिल्म का जिक्र यह बताने के लिए किया कि देश में उद्यमशीलता की कमी नहीं है. यह सिर्फ बड़े शहरों तक सीमित नहीं है.

3. अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन जल्द लौटेंगे
आर्थिक सर्वे में कहा गया है कि ऐसे कई संकेत हैं, जिनसे पता चलता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था निचले स्तर पर पहुंचने के बाद अब तेजी की ओर बढ़ रही है. अगर यह ट्रेंड जारी रहता है तो आगे अच्छी ग्रोथ दिख सकती है.

4. ग्रामीण इलाकों के छात्र ज्यादा खर्च करते हैं
शहरी और ग्रामीण इलाकों के बारे में जानकारी रखने वाले लोगों के लिए यह तथ्य हैरान कर सकता है. आर्थिक सर्वे के मुताबिक, ग्रामीण इलाके का एक स्टूडेंट शहर के स्टूडेंट के मुकाबले किताबों, स्टेशनरी और यूनिफॉर्म पर ज्यादा खर्च करता है.

5. देश में पिस्तौल के मुकाबले रेस्टोरेंट का लाइसेंस मुश्किल
भारत में रेस्टोरेंट शुरू करने का एप्रूवल लेने के मुकाबले पिस्तौल का लाइसेंस लेना आसान है. दिल्ली में पिस्तौल का लाइसेंस लेने के मुकाबले रेस्टोरेंट खोलने के लिए ज्यादा दस्तावेज की जरूरत पड़ती है. 2019-20 के लिए आर्थिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई है.

नेशनल रेस्टोरेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) के मुताबकि, बेंगलुरु में रेस्टोरेंट खोलने के लिए 36, दिल्ली में 26 और मुंबई में 22 एप्रूवल लेने पड़ते हैं. इसके अलावा दिल्ली और कोलकाता में एक 'पुलिस इटिंग हाउस लाइसेंस' की भी जरूरत पड़ती है. दिल्ली में रेस्टोरेंट का लाइसेंस हासिल करने के लिए दिल्ली पुलिस को 45 दस्तावेज देने पड़ते हैं. यह पिस्तौल खरीदने के लिए जरूरी 19 दस्तावेज के मुकाबले बहुत ज्यादा है

 

Leave Comments