NEWS AND ARTICLES

सभी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया

Jan, 15 2020

09 November 2019

  • टीवी सितारों ने किया फैसले का स्वागत

  • सुप्रीम कोर्ट के फैसले को श्रीश्री रविशंकर ने बताया ऐतिहासक, कहा- विवाद से राहत मिली

  • कोर्ट ने रामलला को दी विवादित जमीन, बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने किया फैसले का स्वागत

  • सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को सात दशक पुराने अयोध्या भूमि विवाद मामले में अपना फैसला सुनाया है. अपने फैसले में एपेक्स कोर्ट ने केंद्र को तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट बनाने का निर्देश दिया जो विवादित स्थल पर मंदिर का निर्माण करेगा. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की पीठ से आए इस फैसले पर मशहूर टीवी सीरियल 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में 'बबिता' का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री ​​मुनमुन दत्ता सहित कई टीवी हस्तियों इस फैसले की तारीफ की है. अभिनेत्री ने ट्वीट किया, "आज अयोध्या फैसले से बेहद खुश हूं. यह एक ऐतिहासिक निर्णय है! इस घड़ी में महत्वपूर्ण यह है कि दोनों समुदाय निर्णय को सम्मान करना है और ऐसे संवेदनशील वक्त में हर जगह सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखना है. सभी के लिए शांति और सम्मान. #राममंदिर." 'कहां हूं मैं' के साथ टेलीविजन पर डेब्यू करने वाले अभिनेता विक्रांत मैसी ने लिखा, "क्या शानदार दिन है. हमारा आने वाला कल बीते हुए कल की तुलना बेहतर होगा. मैं एक ऐसे भारत के लिए प्रार्थना करता हूं जो एक नए दशक में कदम रखने के साथ मजबूत और एकीकृत हो. #अयोध्याफैसला."

  • नई दिल्ली: आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ऐतिहासिक बताया. उन्होंने कहा कि इससे हिंदू और मुस्लिम समुदायों के सदस्यों को खुशी और राहत मिली है. उन्होंने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले का तहे दिल से स्वागत करते हैं और लंबे समय से चल रहा मामला आखिरकार एक निष्कर्ष पर पहुंच गया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैं तहे दिल से माननीय उच्चतम न्यायालय के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करता हूं. इससे दोनों समुदाय के लोगों को खुशी और लंबे समय से चल रहे विवाद से राहत मिली है.’’ योग गुरु रामदेव ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले की प्रशंसा की और उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘हिंदू भाइयों को मस्जिद के निर्माण में मुस्लिम भाइयों की मदद करके एक नजीर पेश करनी चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि ऐसा कोई जश्न न मनाया जाए जिससे किसी की भावनाएं आहत हो.

  • नई दिल्ली: अयोध्या विवाद पर देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट ने सुप्रीम फैसला सुना दिया है. कोर्ट ने पूरी विवादित ज़मीन रामलला को दे दी है. सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में कहीं पर 5 एकड़ की वैकल्पिक ज़मीन दी जाएगी. कोर्ट इस फैसले के बाद बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि हम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं. फैसले से पहले बातचीत में भी इकबाल अंसारी ने कहा था कि शीर्ष अदालत जो भी फैसला करेगी, हमें मान्य होगा. उन्होंने कहा कि यह कोई जीत-हार का फैसला नहीं है, बल्कि इससे तो दोनों समुदायों के बीच का द्वेष खत्म हो जाएगा. ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा कि 'माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत है, देश की एकता व सद्भाव बनाए रखने में सभी सहयोग करें, उत्तर प्रदेश में शांति, सुरक्षा और सद्भाव का वातावरण बनाए रखने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है।'एक अन्य ट्वीट में मुख्यमंत्री ने कहा कि 'श्री राम जन्मभूमि पर माननीय सर्वोच्च न्यायालय का सर्वसम्मति से निर्णय भारतीय विधि व्यवस्था की निष्पक्षता का सजीव प्राकट्य है। समस्त नागरिक, निर्णय को सहजता और सद्भाव के साथ स्वीकार करें।'

Leave Comments