NEWS AND ARTICLES

कश्मीर पर चीन की दोहरी भाषा इमरान और जिनपिंग मुलाकात के बाद बोली पाकिस्तान की भाषा

Oct, 12 2019

10 October 2019 

कश्मीर पर एक बार फिर चीन ने यू-टर्न लिया है. इमरान और जिनपिंग की मुलाकात के बाद चीन की तरफ से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है, ‘’जम्मू-कश्मीर में मौजूदा हालात पर चीन की नजर है. कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच ऐतिहासिक विवाद है, जिसे यूएन चार्टर, सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और द्विपक्षीय समझौतों के आधार पर शांतिपूर्वक और सही तरीके से सुलझाना चाहिए. चीन ऐसे एकतरफा कदम का विरोध करता है’’ चीन की ओर से चौबीस घंटे पहले ये बयान आया था कि कश्मीर तो भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा है. ‘’कश्मीर के मसले पर चीन का स्टैंड पूरी तरह साफ है. हम दोनों देशों से अपील करते हैं कि वो बातचीत की मदद से विवाद को खत्म करें, जिससे दोनों देशों के बीच विश्वास पैदा हो और रिश्ते में सुधार हो सके. इसी में दोनों देशों के हित हैं और यही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की अपेक्षा है.’’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है, ‘’हमने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के बीच हुई वार्ता संबंधी रिपोर्ट देखी है, जिसमें कश्मीर को लेकर उनकी चर्चा का उल्लेख है. भारत की स्थिति स्पष्ट और सतत है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है. चीन इस बारे में भारत की स्थिति जानता है. भारत के आंतरिक मामलों में बोलने का अधिकार किसी देश को नहीं है.’’

Leave Comments