Sunday, December 31, 2017

आयुर्वेदिक दोहे



1.जहाँ कहीं भी आपको,काँटा कोइ लग जाय।
दूधी पीस लगाइये, काँटा बाहर आय।।

2.मिश्री कत्था तनिक सा,चूसें मुँह में डाल।
मुँह में छाले हों अगर,दूर होंय तत्काल।।

3.पौदीना औ इलायची, लीजै दो-दो ग्राम।
खायें उसे उबाल कर, उल्टी से आराम।।

4.छिलका लेंय इलायची,दो या तीन गिराम।
सिर दर्द मुँह सूजना, लगा होय आराम।।

5.अण्डी पत्ता वृंत पर, चुना तनिक मिलाय।
बार-बार तिल पर घिसे,तिल बाहर आ जाय।।

6.गाजर का रस पीजिये, आवश्कतानुसार।
सभी जगह उपलब्ध यह,दूर करे अतिसार।।

7.खट्टा दामिड़ रस, दही,गाजर शाक पकाय।
दूर करेगा अर्श को,जो भी इसको खाय।।

8.रस अनार की कली का,नाक बूँद दो डाल।
खून बहे जो नाक से, बंद होय तत्काल।।

9.भून मुनक्का शुद्ध घी,सैंधा नमक मिलाय।
चक्कर आना बंद हों,जो भी इसको खाय।।

10.मूली की शाखों का रस,ले निकाल सौ ग्राम।
तीन बार दिन में पियें, पथरी से आराम।।

11.दो चम्मच रस प्याज की,मिश्री सँग पी जाय।
पथरी केवल बीस दिन,में गल बाहर जाय।।

12.आधा कप अंगूर रस, केसर जरा मिलाय।
पथरी से आराम हो, रोगी प्रतिदिन खाय।।

13.सदा करेला रस पिये,सुबहा हो औ शाम।
दो चम्मच की मात्रा, पथरी से आराम।।

14.एक डेढ़ अनुपात कप, पालक रस चौलाइ।
चीनी सँग लें बीस दिन,पथरी दे न दिखाइ।।

15.खीरे का रस लीजिये,कुछ दिन तीस ग्राम।
लगातार सेवन करें, पथरी से आराम।।

16.बैगन भुर्ता बीज बिन,पन्द्रह दिन गर खाय।
गल-गल करके आपकी,पथरी बाहर आय।।

17.लेकर कुलथी दाल को,पतली मगर बनाय।
इसको नियमित खाय तो,पथरी बाहर आय।।

18.दामिड़(अनार) छिलका सुखाकर,पीसे चूर बनाय।
सुबह-शाम जल डाल कम, पी मुँह बदबू जाय।।

19. चूना घी और शहद को, ले सम भाग मिलाय।
बिच्छू को विष दूर हो, इसको यदि लगाय।।

20. गरम नीर को कीजिये, उसमें शहद मिलाय।
तीन बार दिन लीजिये, तो जुकाम मिट जाय।।

21. अदरक रस मधु(शहद) भाग सम, करें अगर उपयोग।
दूर आपसे होयगा, कफ औ खाँसी रोग।।

22. ताजे तुलसी-पत्र का, पीजे रस दस ग्राम।
पेट दर्द से पायँगे, कुछ पल का आराम।।

23.बहुत सहज उपचार है, यदि आग जल जाय।
मींगी पीस कपास की, फौरन जले लगाय।।

24.रुई जलाकर भस्म कर, वहाँ करें भुरकाव।
जल्दी ही आराम हो, होय जहाँ पर घाव।।

25.नीम-पत्र के चूर्ण मैं, अजवायन इक ग्राम।
गुण संग पीजै पेट के, कीड़ों से आराम।।

26.दो-दो चम्मच शहद औ, रस ले नीम का पात।
रोग पीलिया दूर हो, उठे पिये जो प्रात।।

27.मिश्री के संग पीजिये, रस ये पत्ते नीम।
पेंचिश के ये रोग में, काम न कोई हकीम।।

28.हरड बहेडा आँवला चौथी नीम गिलोय,
पंचम जीरा डालकर सुमिरन काया होय॥

Saturday, December 30, 2017

Steel User Federation of India a brief introduction. Documentary by Mayu...

ખાદ્ય તેલ નો બેતાજ બાદશાહ - પામ તેલ..

આપણા દૈનિક જીવન માં એવી કેટલીયે વસ્તુ હોય છે જેનો આપણે સર્વાધિક ઉપયોગ કરીએ છીએ પરંતુ આપણ ને એ વાત ની ખબર સુદ્ધા નથી હોતી કે તે વસ્તુ શેમાંથી બની છે. જો હું તમને એમ કહું કે તમે દૈનિક ધોરણે રોજ સવાર થી સાંજ સુધી અનેક વાર સીધી અથવા આડકતરી રીતે પામ તેલ નો ઉપયોગ કરો છો, તો તમે મારી વાત પર વિશ્વાસ મુકશો? નહીં ને!!! પરંતુ હકીકત આજ છે. ટૂથપેસ્ટ થી લિપસ્ટિક અને બ્રેડ થી માંડી ને હોટલ માં પીરસવામાં આવતા શાક સુધી ની તમામ વસ્તુ માં પામ તેલ નો ઉપયોગ થાય છે. પરંતુ આપણે આ વાત થી અજાણ છીએ.

મલેશિયન પામ તેલ ને ચાલુ વર્ષે ૧૦૦ વર્ષ પુરા થાય છે. વર્ષ ૧૯૧8 થી ૨૦૧૭ સુધી, પામ તેલ નું સફર એટલું શાંત અને સસ્તું રહ્યું કે આપણે તેની નોંધ સુદ્ધા સીધી નથી. વિશ્વ મા કોસ્મેટીક્સ બનાવવા માટે જેટલા ખાદ્ધ તેલ નો ઉપયોગ થાય છે, તેમાં ૨૮ ટકા હિસ્સો પામ તેલ નો છે. ખાવા માટે ઉપયોગ માં લેવાતા વનસ્પતિ તેલ મા સૌથી વધારે સેવન પામ તેલ નું છે. દરેક ભારતીય એક અથવા બીજા સ્વરૃપે પામ તેલ નું સેવન કરે છે. ક્યારેક તે વનસ્પતિ તેલ ના નામ થી આપણાં ઘરે પહોંચે છે તો ક્યારેક પામ તેલ નામથી. ભારત માં ખાદ્ય તેલ ના ઉપયોગિતા ક્રમ માં આઇમ્પોર્ટેડતેલ સૌથી મોખરા ના સ્થાને છે.



***વર્જિન પામ ઓયલ નો રંગ ઘટ્ટ પીળો હોય છે... ***

 નામ થી જ માલમ પડે છે કે આ તેલ પામ ના ઝાડ માંથી બને છે. પામ નું વૃક્ષ નારિયેળ ના કુળ નું છે. ફરક માત્ર એટલો છે કે નાળિયેર નું ફળ મોટા કદનું હોય છે જ્યારે કે પામ નું બીજ બે ઇંચ જેટલું નાનું હોય છે. આજ થી સો વર્ષ પહેલાં અંગ્રેજ દ્વારા આ વૃક્ષ આફ્રિકા થી એશિયા પહોંચ્યું હતું. ત્યાર થી તેનો વ્યવસાયીક ઉપયોગ શરુ થયો. કલ્પવૃક્ષ ની માફક આ વૃક્ષ 100% ઉપયોગી છે. વિષુવવૃતની ધરી થી ૧૦ ટકા ઉપર અને 10% નીચેના વિસ્તારમાં જ આ વૃક્ષ ઊગી શકે છે. મલેશિયા, ઈન્ડોનેશિયા, થાઇલેંડ, અને નાઇજિરિયા જેવા દેશો માં આ વૃક્ષ મોટા પ્રમાણ માં થાય છે. એટલે કે વિષુવ વૃત્તીય દેશો પાસે પામ ની મોનોપોલી છે. હવે આ મોનોપોલી નો જબરજસ્ત ફાયદો પણ આ દેશો ને મળી રહ્યો છે. મલેશિયા જેવો નાનો દેશ પામ તેલ ની શતાબ્દી ઉજવી રહ્યો છે કારણ કે તે દેશના અર્થતંત્ર માં પામ નું વિશેષ મહત્વ છે. પામ તેલ ના ઉત્પાદન માં વિશ્વ માં મલેશિયા એ બીજો સૌથી મોટો દેશ છે. આ દેશ ની 7 ટકા વસ્તી પામ ના ખેતર, કારખાના માં કામ કરે છે. જ્યારે કે તે દેશની જીડીપીમાં પામ નો હિસ્સો ૮ ટકા જેટલો છે. જોકે આ મામલે ઇન્ડોનેશિયા, મલેશિયા ને પણ આંટી જાય છે. તેમની ઇકોનોમી માં પામ નું સ્થાન અદકેરું છે.
  
 ભારત માં અનેક પ્રકાર ના તેલો ઉપલબ્ધ છે. મગફળી નું તેલ, નારિયેળ નું તેલ, તલ નું  તેલ, સુરજ મુખી નું તેલ અને બીજા અનેક પ્રકાર ના તેલ. તેમ છતાં ભારત ની 121 કરોડ ની આબાદી ની  ખાદ્ય તેલ ની જરૂરિયાત પામ તેલ વગર પૂરી થઈ શકતી નથી. એનું પ્રમુખ કારણ છે પામ તેલ ની કિંમત. જે વસ્તુ ની બનાવટ માં ખાદ્ય તેલ નો ઉપયોગ કરવો જરૂરી છે ત્યાં પામ તેલે પોતાનું સ્થાન સરળતા થી હાંસલ કરી લીધું છે.  ભારત માં એક સમયે પામ તેલ રેશનિંગ ની દુકાનો માં ઉપલબ્ધ રહેતું હતું. દિવાળી દરમ્યાન તેના થી ઘર માં ફરસાણ બનતું, આજે ભારત ના અનેક વિસ્તારો માં આ પ્રથા ચાલુ છે.
***પામ ના ફળ ની છાલ માંથી બનેલુ તેલ લાલ રંગ નુ હોય છે.   ***

ભારત પામ તેલ નો સૌથી મોટો આયાત કર્તા દેશ છે.ચાલુ વર્ષે ફેબ્રુઆરી થી માંડી ને સપ્ટેમ્બર એટલે કે સતત આઠ મહિના સુધી દર મહિને ભારત ની પામ તેલ ની આયાત વધતી ગઈ. ગત વર્ષ ની તુલના માં આ વર્ષ ની આયાત 12.2 ટકા વધીને ૯૬ લાખ ૫૨ હજાર મૅટ્રિક ટન સુધી પહોંચી છે. જ્યારે કે વર્ષ 1998 માં ભારત માત્ર એક લાખ મૅટ્રિક ટન પામ તેલ આયાત કરતું હતું. જે રીતે પામ તેલ વિશ્વ માં આર્થિક રીતે કમજોર લોકો ની પહેલી પસંદ છે, તેજ રીતે પામ તેલ એશિયા ના ગરીબ દેશો માં થી ગરીબી દૂર કરવા ના કાર્યક્રમ માં મોખરે છે. મલેશીયા અને ઇન્ડોનેશીયા માં પામ ની ખેતી અને કારખાનાઓ માં મોટા પ્રમાણ માં મજુરો કામ કરે છે.

 ભારત ને પ્રતિવર્ષ 22 મિલિયન ટન ખાદ્ય તેલ ની જરૂર પડે છે. તેમાં થી ૪૩ ટકા જરુરીયાત પામ તેલ પુરી કરે છે.ગ્લોબલ ઓયલ ડેટાના રિપોર્ટ મુજબ વિશ્વ માંવાર્ષિક ૧૮6.4 મિલિયન ટન ખાદ્ય તેલ નો સપ્લાય થાય છે. જેમાં 32% હિસ્સો પામ તેલ નો છે. પામ તેલ નો વૈશ્વિક કારોબાર ૬૫ મિલિયન ટન નો છે. આ તેલ ની ઉપલબ્ધતા વધવા ને કારણે અન્ય તેલ ના દામ કાબૂ માં રહે છે. આ જ કારણ થી વિશ્વ ના લગભગ તમામ દેશો પામતેલ ની આયાત કરે છે. તેલની વૈશ્વિક કિંમત પર નજર નાંખી એ તો ૧૯૯૦ સુધી તેની કિંમત 230 ડોલર પ્રતિ મૅટ્રિક ટન હતી. જે આજે વધી ને 630 ડોલર પ્રતિ મૅટ્રિક ટન છે.

 એશિયાઈ દેશો સમજી ચૂક્યાં છે કે તેમની પાસે ખાદ્યતેલ ની એક મોટી પ્રાકૃતિક પૂંજી આવી ચૂકી છે. જેથી જ હવે પામતેલ ની ઉપયોગીતા વધારવા ના ઉદ્દેશ્ય થી પામ પર રિસર્ચ કરવા માં આવી રહ્યુ છે. હાલ પામ તેલ થી ૧૦૦ થી વધુ દવાઓ અને પ્રોડકટ બનાવવામાં આવી રહી છે. મલેશિયા માં વર્જિન પામ ઓઇલ નું વેચાણ શરૂ થયું છે. આ તેલ હવે ઓલિવ ઓઇલને વૈશ્વિક સ્તર પર ટક્કર આપી રહ્યું છે. તેથી જ  ખાધ તેલ ની બાબત માં આંતરરાષ્ટ્રીય રાજકારણ શરૂ થઇ ચૂક્યું છે.
ખાદ્ય તેલ ના આલોચક આ તેલ ને સ્વાસ્થ્ય માટે વધુ ગુણકારી નથી માનતા. પરંતુ આ તેલ માં  વિટામિન એ અને વિટામિન ઈ ભરપૂર છે. દાવો કરવા માં આવે છે કે આ તેલ માં કોલેસ્ટ્રોલ નથી.


 તો તમારા ઘરમાં તમે ભલે પામ ઓઇલ ન ખરીદતા હોવ. પરંતુ તમે જ્યારે રેસ્ટોરન્ટ માં ચટાકેદાર ભોજન કરો છો ત્યારે એ વાત જરુર યાદ રાખજો કે તમારી જીભ ઉપર પામ તેલ નો સ્વાદ ચડી ચૂક્યો છે. જેનો તમને અંદાજો સુદ્ધાં નથી.




*** પામ માં થી બનેલી વિવિધ પ્રોડક્ટો.***


Tuesday, September 19, 2017

गुजरात की राजनैतिक नसबंदी, हम एक ( राज्य) हमारे दो ( राजनैतिक दल).


गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला ने 'जन विकल्प' के साथ अपना गठजोड़ सार्वजनिक कर दिया है. दुनिया को पता चल गया की गंगाधर ही शक्तिमान है. यानी जन विकल्प की संकल्पना के पीछे शंकर सिंह वाघेला ही थे. लेकिन गुजरात का इतिहास देखें तो इस नए दल की राह आसान नहीं है. यह नया दल किसी एक निश्चित दल का आंकड़ा बिगाड़ेगा या फिर अपना वजूद बनाने के लिए भारी मशक्कत करता दिखाई देंगा. कम-से-कम गुजरात का इतिहास तो यही कह रहा है.

 
गुजरात की अलग राज्य के रुप मे स्थापना हुई तब से लेकर अब तक. यानी पिछले 57 सालों में गुजरात मे कई दल बने और खत्म हुए. बीजेपी और कांग्रेस को छोड़ अन्य कोई भी दल गुजरात में राजनीति नहीं कर पाया. इंदु चाचा की जनता परिषद से लेकर 2012 के गुजरात विधानसभा चुनाव में केशुभाई पटेल तक कई दिग्गज नेताओ ने नए दल बनाए, चुनाव भी लड़े. लेकिन प्रमुख पार्टी बनकर कोई भी नहीं उभर पाया. पिछले 50 सालों में जनता परिषद, नूतन गुजरात जनता परिषद, कीमलोप, राष्ट्रीय जनता पार्टी, जनता दल - गुजरात, राष्ट्रीय कांग्रेस, लोक स्वराज्य मंच, सुराज्य परिषद, युवा विकास पार्टी समेत एक दर्जन से ज्यादा दल बने लेकिन आज इनका नामोनिशान कहीं पर भी नहीं है.

  • 1956 में महा गुजरात आंदोलन शुरू हुआ, तमाम प्रमुख दल कांग्रेस के खिलाफ थे. 1957 में महागुजरात जनता परिषद दल बनाया गया. चुनाव भी लड़ा गया, लेकिन जीत हासिल नहीं हुई.
  • नवनिर्माण आंदोलन के बाद पूर्व मुख्यमंत्री चिमन भाई पटेल ने 1975 में किसान मजदूर लोक पक्ष की स्थापना की थी. जबरदस्त टक्कर देने के बावजूद महज 12 सीटों पर यह दल चुनाव जीत सका.
  • 1990-91 के दशक में चिमन भाई पटेल ने जनता दल - गुजरात के नाम से एक पार्टी बनाई. BJP के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़े .लेकिन यह पार्टी भी आज कहीं नहीं दिख रही.
  • हाल फिलहाल में नई पार्टी में शामिल हुए शंकर सिंह वाघेला ने 22 साल पहले महागुजरात जनता पार्टी और राष्ट्रीय जनता पार्टी के नाम से नया राजनीतिक दल खड़ा किया था. कांग्रेस के समर्थन से सत्ता में भी आए थे. लेकिन इस दल को भी कांग्रेस में शामिल हो जाना पड़ा.
  • 1982 में कांग्रेस से नाराज हुए माधवसिंह सोलंकी ने राष्ट्रीय कांग्रेस के नाम से एक दल बनाया था. चार सांसद और 5 विधायकों ने मिलकर यह दल को आगे बढ़ाने की कोशिश की. लेकिन 1985 के चुनाव में यह दल कहां गया किसी को आज तक पता नहीं चला.
  • गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू भाई पटेल ने 1990 में लोक स्वराज मंच के नाम से राजनैतिक दल बनाया था लेकिन नतीजा कुछ नहीं.
  • 1994 में पूर्व वित्त मंत्री दिनेश शाह ने सुराज्य परिषद नाम के संगठन की घोषणा की थी लेकिन उसका भी वही हाल हुआ जो अन्य दलों का हुआ है.
  • वहीं प्रजा समाजवादी पक्ष के पास गुजरात में तीन विधायक रहे. लेकिन यह तीनो विधायक 1971 में कांग्रेस में शामिल हो गए.
  • बीजेपी से अलग हुए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोसने वाले पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल ने गुजरात परिवर्तन पार्टी बनाई. साल 2012 में जोरदार चुनाव लड़ा. लोगों को ऐसा लग रहा था कि यह दल बीजेपी के लिए खतरा बनेगा. लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ महज दो ही विधायक जीत पाए.

यह राजनैतिक नसबंदी गुजरात की जनता ने की है. जिसमे नए दल वोटकटवा बनकर रह जाते है.


#Gujarat #Politics #JanVikas #Shankarsinh Vaghela #ThirdFront #MayurParikh


Sunday, August 6, 2017

गुजरात एनसीपी की पेबैक गेम….

क्रिकेट में एक जुमला है- ‘पेबैक सीरीज’. जब एक क्रिकेट टीम दूसरी टीम के हाथों पूरी की पूरी सीरीज हार जाती है और फिर एक अंतराल के बाद उन दोनों टीम के बीच फिर मुकाबला होता है और पिछली बार हारी हुई टीम ठीक उसी तरह जीत हासिल करती है. उसे कहते हैं पेबैक सीरीज.

गुजरात में इसी तरह एनसीपी इस समय कांग्रेस से साल 2012 का बदला ले रही है. साल दौरा 2012 में जब गुजरात के विधानसभा चुनाव हुए थे तो कांग्रेस और एनसीपी के बीच में गठबंधन का फैसला हुआ था. इस गठबंधन के फार्मूले के तहत कांग्रेस ने एनसीपी को 9 सीटें दी थी. लेकिन एन मौके पर गठबंधन और समझौता घोषित होने के बाद भी कांग्रेस ने दबंगाई की. कांग्रेस पार्टी ने इन 9 में से 5 सीटों पर अपने आधिकारिक तौर पर उम्मीदवार खड़े रखें. जाहिर सी बात है एनसीपी को पूरा का पूरा एक चुनाव यानी 5 साल गवाने पड़े. महज 4 सीटों पर एनसीपी चुनाव लड़ी उनमें से 2 सीटों के ऊपर उसे विजय हासिल हुई.

लेकिन अब 5 साल के बाद पासा पलट गया है. गुजरात में राज्यसभा सीट को लेकर जोरदार दंगल जारी है. कोंग्रेस को राज्यसभा की सीट बचाने के लिए एक-एक विधायक की जरूरत पड़ रही है. कांग्रेस में तो इस समय फूट पड़ी हुई है, ऐसे में उन्हें अपनी सहयोगी पार्टी एनसीपी याद आ रही है. एनसीपी के महज 2 विधायक हैं लेकिन यह दोनों विधायक चाहें तो अहमद पटेल की राह आसान बना सकते हैं. लिहाजा पहले कांग्रेस के दिल्ली के बड़े नेताओं की एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार के साथ में चर्चा हुई. शरद पवार ने तो सार्वजनिक रूप से कह दिया कि एनसीपी पार्टी अहमद पटेल को वोट करेगी. लेकिन यह बात गुजरात में जमीनी स्तर पर कोई ज्यादा नहीं टिक पाई है.

दरअसल एनसीपी पार्टी यह चाहती है की 2012 के चुनाव में कांग्रेस ने एनसीपी को जो धोखा दिया था उसका सूत समेत बदला लिया जाए. इसीलिए एनसीपी के तेवर बदले बदले से नजर आ रहे हैं. सूत्रों की माने तो कांग्रेस पार्टी ने अबकी बार शर्त रखी है की विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन हो, इस गठबंधन की घोषणा पहले ही हो, गठबंधन के फार्मूले के तहत 20 विधानसभा की सीटें कांग्रेस पक्ष एनसीपी को दे, तब जाकर एनसीपी कांग्रेस को राज्यसभा चुनाव में वोट करेगी.

सस्पेंस इतना लंबा रखा गया है की 8 तारीख सुबह से पहले यानी राज्यसभा के लिए गुजरात में जिस दिन वोट डाले जाने हैं उससे पहले एनसीपी यह बात नहीं बताएगी कि वह किसे वोट करने वाली है. एक चर्चा यह भी है कि अहमद पटेल हर दिन तीन से चार बार एनसीपी के नेताओं के साथ फोन पर बात कर रहे हैं. लेकिन मामला अब तक पूरी तरह से जमा नहीं है.

इसे कहते हैं पेबैक सीरीज.
राजनीति में कुछ भी असंभव नहीं है.


Thursday, August 3, 2017

गुजरात में बाढ़ से डेयरी उद्योग पर गिरी गाज, अमूल को 70 करोड़ का नुकसान




उत्तर गुजरात में आई बाढ़ के चलते दूध और दूध से बनने वाली चीजों के उत्पादन में भारी गिरावट आ सकती है. पिछले एक हफ्ते में ही अमूल डेरी को करीब 70 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है और ये आंकड़ा रोज़ बढ़ रहा है. देश की सबसे बड़ी बनास डेयरी में दूध का कलेक्शन आम दिनों के मुकाबले एक चौथाई रह गया है.
गुजरात के उत्तरी इलाकों में आई बाढ़ ने राज्य के डेयरी उद्योग को भारी नुकसान पहुंचाया है. अमूल से जुड़ी 18 कोऑपरेटिव डेयरीज़ में सबसे बड़ी डेयरी बाढ़ प्रभावित बनासकांठा इलाके में है. इस डेयरी में हर रोज़ 40 लाख लीटर दूध इकट्ठा होता रहा है, लेकिन बाढ़ की वजह से हर रोज़ सिर्फ 10 लाख लीटर दूध ही डेयरी तक पहुंच पा रहा है. बाढ़ की वजह से सड़कों को इतना नुकसान हुआ है कि दूर दराज गांवों के लोगों के लिए डेयरी तक दूध पहुंचाना मुश्किल हो गया है. दूध कलेक्शन में कमी के कारण दूध से बनने वाली चीजों के उत्पादन में भी भारी गिरावट आई है. 
अकेले अमूल फेडरेशन को ही इस बाढ़ की वजह से 70 करोड रुपये का नुकसान हुआ है. बाढ़ की वजह से बड़ी तादाद में गाय-भैंसों की मौत भी हुई है. जिसके चलते वाले दिनों में भी दूध कलेक्शन में सुधार होना आसान नहीं होगा. दूध की इस किल्लत का खामियाजा किसानों के साथ ही साथ उपभोक्ताओं को भी उठाना पड़ सकता है.

Monday, June 26, 2017

पेड़ों के हत्यारे....

बारिश में पेड़ों की छटनी के नाम पर इन दिनों बीएमसी खुद ही तमाम पेड़ों का कत्लेआम कर रही है. यह तस्वीरें बोरीवली पश्चिम इलाके की है, जहां बड़े और घने पेड़ों को काट दिया गया हैं.
पेड़ों की टहनी काटने के नाम पर आधे पेड़ को काट दिया जाता है. कुछ एक जगह पर तो एक भी पत्ती या एक भी टहनी तक बाकि नहीं रखी है. सीधे सीधे पेड़ को काट दिया है.
एक ओर महाराष्ट्र सरकार करोड़ों रुपए के खर्च पर चार करोड़ वृक्ष लगाने का लक्ष्य रख कर बैठी है. वहीं दूसरी और बीएमसी पेड़ों को लगातार काटते जा रही है.
यह पेड़ इतने बुरे तरीके से काटे गए हैं कि तूफान आने पर यह एक ही झटके में धराशाई हो जाएंगे.

गलत ढंग से पेड़ की छटनी करने के मामले में हाल ही में बीएमसी ने अभिनेता ऋषि कपूर को दोषी पाया और उसके खिलाफ मामला दर्ज कर दिया. लेकिन यहां तो बीएमसी खुद ही कानून का उल्लंघन कर रही है.

कहीं बीएमसी और लकड़ी के कारोबारियों के बीच यहां कोई सांठगांठ तो नहीं चल रही? बताइए इन पर कौन कार्यवाही करेगा?


Thursday, April 27, 2017

Viral Sach: HUGE REVELATION: Is cow leather being used to make shoes, be...

दुकानो मे खुलेआम बिक रही है गाय के चमडे से बनी चीजे...



Ghanti Bajao: Girl ends her life to lessen father's burden of dowry in L...





आज भी दहेज प्रथा के चलते लडकीयों को करनी पड रही है आत्महत्या. महाराष्ट्र के लातूर से देखीए मेरी स्पेशल रिपोर्ट...







Sachin Tendulkar Birthday Celebration 2017

क्रिकेट की दुनिया के बेताज बादशाह सचीन तेंडुलकर ने मुंबई इंडियन्स क्रीकेट टीम और निता अंबानी के साथ अपना जन्मदिन मनाया. देखीए कौन-कौन था मौजूद...







Friday, March 31, 2017

मुंबई में अधिकारियों का अवैध आशियाना : बिना इजाजत बना ली बिल्डिंग, लाखों बकाया

महाराष्ट्र के सरकारी बाबुओं की करतूतें देखकर आप कहेंगे की क्या यह वाकई सरकारी अफसर हैं या फिर गैरकानूनी काम करने वाला गिरोह. आरटीआई के जरिये पता चला है की कई आईएएस अफसरों ने सालों से अपने घर का किराया नहीं भरा है. कइयों ने तो अवैध तरीके से घर पर कब्जा भी कर रखा है.
आदर्श इमारत बनाई थी तब इस घोटाले पर काफी शोर मचा था
जब महाराष्ट्र के नेताओं ने आदर्श इमारत बनाई थी तब इस घोटाले पर काफी शोर मचा था. अब वाकोला इलाके की 12 मंजिला इमारत भी विवादों में आ गई है. क्योंकि इसे इजाजत है 2 मंजिल बनाने की लेकिन इस पर बनी हुई हैं पूरी 12 मंजिलें. आम तौर पर इस तरह के निर्माण को नगरपालिका एक दिन में तोड देती है. लेकिन, इस इमरात में सरकारी बाबुओं के फ्लैट्स हैं इसलिए इसका कोई बाल बांका नहीं कर सकता है.
फडनवीस के सचीव प्रवीण दराडे सहित 84 सरकारी बाबुओं के फ्लैट
इमारत में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस के सचीव प्रवीण दराडे सहित 84 सरकारी बाबुओं के फ्लैट है. इन सरकारी अफसरों ने एक सोसायटी बनाई और सरकार से प्लॉट लेकर बीना इजाजत के म्हाडा ने इमारत खड़ी कर दी. हैरान करने वाली बात यह है कि सरकारी अधिकारियों के लिए म्हाडा ने खुद इमारत बनाई. ऐसा म्हाडा के इतिहास में पहली बार हो रहा है.
अवैध तरीके से रहनेवाले अधिकारियों पर लाखों रुपये बकाया
यह तो हुई गैरकानूनी प्रॉपर्टी की बात. अब आपको दिखाते हैं महाराष्ट्र में रिटायर और तबादले के बाद भी सरकारी क्वार्टर में अवैध तरीके से रहनेवाले अधिकारियों पर किस तरह लाखों रुपये बकाया है. जिन अधिकारियों पर 91 लाख 48 हजार 503 रुपए का बकाया है, उनमें वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अशोक कुमार शर्मा, महाराष्ट्र राज्य औद्योगिक विकास मंडल के महाप्रबंधक राजेंद्र अहिवर, आईएएस कमलाकर फंड, पुलिस विजिलेंस कमिटी के सदस्य पी के जैन और सुधीर जोशी शामिल हैं.
कमलाकर फंड पर 24 लाख 15 हजार 496 रुपए बकाया है
आईएएस अधिकारी कमलाकर फंड पर 24 लाख 15 हजार 496 रुपए बकाया है जबकि महाराष्ट्र राज्य औद्योगिक विकास मंडल के महाप्रबंधक राजेंद्र अहिवर पर 5 लाख 96 हजार 260 रुपये, उप जिलाधिकारी धनाजी तोरस्कर पर 6 लख 04 हजार 400 रुपए, सुधीर जोशी पर 8 लाख 21 हजार 852, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अशोक कुमार शर्मा पर 4 लाख 97 हजार 335 और अशोक सोलनकर पर 2 लाख 14 हजार 847 रुपये बकाया है.
3 रिटायर्ड जजों में प्रकाश कुमार राहुले पर 6 लाख 93 हजार 085 रुपए बकाया
3 रिटायर्ड जजों में प्रकाश कुमार राहुले पर 6 लाख 93 हजार 085 रुपए, प्रकाश राठौड़ पर 7 वाख 96 हजार 375 रुपए, टी.एम. जहागीरदार पर 4 लाख 86 हजार 036 रुपए का बकाया है. रिटायर्ड आईएएस सुधीर खानापुरे पर 2 लाख 65 हजार 545 रुपए और प्रेमकुमार जैन पर 17 लाख 57 हजार 272 रुपये बकाया है.
अधिकारियों को घर खाली कराने के प्रयास क्यों नहीं किये गए ?
वित्त मंत्री ने साफ कर दिया है कि बकाया किसी को बख्शा नहीं जाएगा. सवाल उठता है कि जब सिर्फ दो मंजिल बनाने की इजाजत दी गई थी तब इमारत के 12 मंजिल बनने तक म्हाडा के बड़े अधिकारी कहां थे ? तबादले और रिटायर होने के बाद भी अधिकारियों को घर खाली कराने के प्रयास क्यों नहीं किये गए ?

Monday, March 20, 2017

एअरटेल से छिन गया ताज, आईडिया और वोडाफोन ने मिलाया हाथ.... बनी देश की सबसे बडी टैलीकोम कंपनी.

टैलीकोम सैक्टर के सबसे बडे विलय की आधिकारिक घोषणा हो गई है. वोडाफोन और आईडिया ने मर्जर कर दिया है. इससे विलय से बनने वाली नई कंपनी देश के सबसे बडी टैलीकोम कंपनी होगी. नई कंपनी मे दोनो कंपनीओ की बराबर की हिस्सेदारी होगी. इस मर्जर के बाद टैलीकोम सैक्टर में भारत मे करीब 5 बड़े खिलाड़ी बचे हैं.
  

विलय से क्या होगा?
·         इन दोनो कंपनियों के एक होने से कुल ग्राहको की संख्या 40 करोड़ होगी.
·         बाजार का 41 फीसदी हिस्सा नई कंपनी के पास.
·         भारत के 35 फीसदी ग्राहक इस नई कंपनी के पास होंगे.
·         इस मर्जर के बाद जम्मू-कश्मीर को छोडकर देश के हर राज्य मे यह नई कंपनी पहले क्रम या दूसरे क्रम की टैलीकोम कंपनी होगी.

कैसे बनेगी नई कंपनी?
·         फिलहाल आईडिया कंपनी मे प्रमोटर की हिस्सेदारी 26 फीसदी है जबकि वोडाफोन कंपनी मे प्रमोटर की हिस्सेदारी 45.1 फीसदी है.
·         नए एग्रीमेन्ट के तहत दोनो कंपनियों के प्रमोटर की हिस्सेदारी बराबर होगी.
·         नई कंपनी के बोर्ड मे समान नंबर के यानी 6-6 निदेशक वोडाफोन और आईडिया कंपनी के होंगे. जबकि 6 निदेशक स्वतंत्र होंगे.
·         कुमार मंगलम बिडला नई कंपनी के चेअरमैन होंगे.
·         नई कंपनी में वोडाफोन का सी.एफ.ओ होगा.
·         3500 करोड़ रुपए की लगात से आइडिया वोडाफोन के 9 फीसदी शेअर खरीदेगा.
·         नई कंपनी मे सीओओ और सीएफओ संयुक्त रूप से चुने जाएंगे.


कब तक बन जाएगी नई कंपनी?
·        साल 2018 मे इस विलय की प्रक्रिया पूरी होगी.

ग्राहको को क्या फायदा मिलेगा?
·        कंपनी का दावा है कि इस एग्रीमेन्ट से वो डिजिटल इंडिया के नए चैंम्पियन होंगे.
·        4 जी प्लस और 5 जी की स्पीड अन्य कंपनीओ से बहेतर होगी.
·        ग्राहकों का बिल कम हो सकता है.

सबसे बड़ा सवाल - कर्मचारियों का क्या होगा?
·         आईडिया वर्ष 1995-96 से टैलीकोम सेक्टर में काम कर रही है.
·         आईडिया मे फिलहाल 10 हजार कर्मचारी और लाखों वैन्डर कार्यरत है.
·         वोडाफोन भारत मे टैलीकोम सेक्टर की सबसे बडे एफडीआय की कंपनी है.
·         वोडाफोन में करीब 10 हजार कर्मचारी है.
·         सवाल यह है इन कर्मचारियों की नौकरी बचेगी या नहीं?

YouTube Link

https://youtu.be/I-OYhiT4inw

Saturday, February 18, 2017

श्श्श्श्..... खामोश है मुंबई.... यह तूफान की दस्तक है.

मुंबई में खामोशी है. मतदाता खामोश है. एक ओर जहां प्रचार का शोर रात 10:00 बजे तक गली-गली और सड़कों पर दिखाई पड़ रहा है. वहीं दूसरी ओर मतदाता पूरी तरह से चुप है.



राजनैतिक खामोशी. 

मुंबई का मतदाता कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है. ट्रेन के अंदर ना तो चर्चा है और ना ही पान के गल्ले पर बहस. मुंबई मे इस कदर खामोशी शायद ही पहले किसी चुनाव के दौरान देखी गई हो. जनता तो बस सुन रही है और चुपचाप अपना काम कर रही है.

शोर कहां है. 

राजनैतिक पार्टीओ की रैली में, कार्यकर्ताओ के बीच, पार्टी कार्यालयो में, न्यूज चैनल के दफतरो में, रिपोर्टरो के बीच.

स्पीरल ऑफ साइलेंस का मतलब क्या है.


  • मुंबई में इस समय जारी यह खामोशी बहुत कुछ कह जाती है. बड़े-बड़े राजनीति विशेषज्ञों के लिए यह जान पाना मुश्किल है कि आखिर मुंबई की जनता किसे चुनेगी. 


  • कम्युनिकेशन का एक सिद्धांत है, जिसे कहते हैं स्पीरल ऑफ साइलेंस. इसका मतलब यह होता है कि एक व्यक्ति अपनी राय किसी के सामने प्रकट नहीं करता. लेकिन वक्त आने पर ऐसे तमाम खामोश लोग एक साथ अपनी बात एक जगह पर कह देते हैं. मुंबई महानगर पालिका के चुनाव में अब की बार यही स्पीरल साइलेंस देखने को मिल रहा है.


  • इसके अलग-अलग अर्थ निकाले जा रहे हैं. जो शिवसेना का समर्थक है वह कह रहा है कि लोगों का मन बन चुका है, अब शिवसेना की जीत तय है. वही दूसरा खेमा यह कह रहा है कि ये खामोशी शिवसेना की गुंडागर्दी के खिलाफ है. कोई भी व्यक्ति अपना मुंह खोल कर इस पार्टी के खिलाफ नहीं बोलना चाहता क्योंकि उसे गाली-गलोज पथराव और परेशानियों का सामना करना पड़ेगा.


  • इस खामोशी के दो मतलब निकलते हैं. पहला अर्थ यह है कि लोग निराश-हताश हैं. ऐसे में वह वोटिंग करने नहीं जाएंगे. यदि ऐसा हुआ तो शिवसेना की जीत तय मानिए क्योंकि शिवसैनिक और शिवसेना का वोटर अपनी वोटिंग जरुर करेंगे. मुंबई के कुल वोटरों में मराठी वोटरो की संख्या 40 फिसदी जितनी है. दूसरा अर्थ यह है कि वोटर खामोश रहना चाहता है और वह चुप-चाप सत्ता के खिलाफ वोट करेगा. खामोश वोटरों ने वोटिंग कर दिया तो यह मतदान शिवसेना के खिलाफ होगा ऐसे में अप्रत्याशित परिणाम देखने को मिलेंगे.


21 तारीख को यदि 44 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ तो समज जाईए की शिवसेना की सत्ता समाप्त. लेकिन उससे कम मतदान हुआ तो बीजेपी फिर एक बार तीसरे नंबर पर पहुंच सकती है. 

Friday, February 17, 2017

ગુજ્જુભાઈ રોક્સ.. ઇન્ટરવલ બાદ ની ફિલ્મ જોઇ તમે કહેશો.. લેટ્સ વોચ ઇટ વન્સ મોર..

 

માણવા લાયક શું? 

ફીલ્મ માત્ર ત્રણ વસ્તુ માણવા લાયક છે. ૧. ચુસ્ત ડાઈલોગબાજી ૨. વિપુલ વિઠલાણી ની એક્ટીંગ ૩. પ્રીયંકા ની કામણગારી અદાઓ. 

ફીલ્મ ની વાર્તા

બે કલાક ની હળવાશ ભરી ફિલ્મ ની વાર્તા પતી,પત્ની અને 'વો' પર આધારીત છે.  ચાંદની ની ખુબસુરતી થી અંજાયેલા અને પોતાના શુષ્ક લગ્ન જીવન માં આગ પેટાવવા તણખલો ઉધાર લેવા ગયેલા  વિપુલ વિઠલાણી એટલે કે જયંત કંસારા આબાદ ફસાય છે અને તેમાંથી છટકવાની પ્રયાસ કરે છે. ફિલ્મ ની વાર્તા પાંચ એક્ટરોની આસપાસ વિંટળાયેલી છે. ટુંકા અને રમૂજ ડાઇલોગ્સ દર્શક ને હસાવવામાં સફળ છે. 

ફિલ્મ નો તણખો

પ્રીયંકાની એક્ટીંગ નો તણખો દર્શક ને સતત જકડી રાખે છે. ફુલ ફટાકડી ચાંદની એટલે કે પ્રીયંકા નો ડાન્સ જોવા લાયક છે. ફીલ્મ ના ગીતો સરસ છે - સાંભળ્યા બાદ ગુનગુનાવા નું મન થાય તેવા છે.  એક 'રોકીંગ' ગીત પણ છે - ગુજરાતી ફિલ્મ મા આવા અઘરા અખતરા ઓછા જોવા મળે છે. ઇન્ટરવલ બાદ ની ફિલ્મ દર્શક ને જકડી રાખે છે. 

ઉણપો

ફિલ્મ ના ફર્રસ્ટ હાફ મા ડબીંગ, કેમેરા વર્ક અને નાની મોટી ઊણપો સ્પષ્ટ રીતે દેખાઈ આવે છે. 

રેટીંગ

આ ફીલ્મ ને મારા જેવો કંજૂસ પત્રકાર ૫ માથી ૩ સ્ટાર આપશે. પહેલા હાફ ના ૨.૫ માથી માત્ર ૧ અને ઇન્ટરવલ પછી ના ભાગ ના ૨.૫ માથી ૨. 

Thursday, February 16, 2017

क्या शिवसेना के मुखपत्र सामना पर लगेगी पाबंदी?

 

बीएमसी चुनाव का प्रचार जबसे शुरु हुआ है तभी से शिवसेना के मुखपत्र सामना मे सिर्फ शिवसेना का प्रचार छप रहा है. 

क्यों न हो प्रचार? 

सामना यह उद्धव ठाकरे का ख़ुद का अख़बार है.
यह शिवसेना का मुखपत्र भी है. 
इस अख़बार ने हमेशा ही पार्टी की बात को शिवसैनिको तक पहुँचाया है. 


इस नाते यह प्रचार पत्रिका हुई - अख़बार कैसे हुआ?

यह अख़बार की कैटेगरी मे दर्ज होने से उसे काग़ज़, सरकारी योजना के तहत अन्य चीजे मिल रही है. 
सवाल यह है कि यदि सामना किसी पुलिटीकल पार्टी का मुखपत्र है तो फिर उसे सरकारी रियायत कैसे मिल सकती है? 


सामना अकेला नहीं है.

तरुण भारत - बीजेपी 
जया टी.वी - एआईएडीएमके 
सन टी.वी - डीएमके 

इस तरह के कई पब्लिकेशन अलग अलग पुलिटीकल पार्टी के लिए प्रचार का काम करते है. क्यों ना तमाम पब्लिकेशन के उपर चुनाव आयोग कदम उठाते हुए इन्हें चुनाव के दौरान बंद कर दे. 

अख़बार यदि किसी एक उम्मीदवार के बारेमे ख़बर छापता है तब उसे पेइड न्यूज़ की कारवाई झेलना पड़ती है. एसेमे पुलिटीकल दल से जुड़े पब्लिकेशंस पर पाबंदी क्यों नहीं. 

अबकी बार बीजेपी ने इस मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की है. यह एक अच्छा मौक़ा है. बीजेपी के कंधे पर बंदूक़ रखकर 'फ़ायर' कर देना चाहिए. सिर्फ सामना ही क्यों तमाम पुलिटीकल पार्टी के साथ जुड़े पब्लिकेशन पर कारवाई होनी चाहिए. 

सवाल यह है कि क्या चुनाव आयोग इतनी हिम्मत दिखा पाएगा ? 


આતંકવાદ ને નાથવા પર્યટન નું ઓસડ

કાશ્મીર માં આતંકવાદ ને ડામવા સરકારે પર્યટન નો સહારો લીધો છે.   છેલ્લા લાંબા સમયથી અખબાર અને મીડિયામાં કાશ્મીર માં ફેલાયેલી અરાજકતા તેમજ ...