Posts

Showing posts from November, 2016

नैतिकता या मजबूरी?

Image
1000 और ₹500 की करेंसी बैन होने के बाद अब लोग बड़ी संख्या में अपना बकाया टैक्स भरने के लिए महानगर पालिका ऑफिस में पहुंच रहे हैं. चाहे प्रोपर्टी टैक्स हो या फिर वोटर टैक्स या फिर कोइ अन्य टैक्स. महाराष्ट्र की अलग-अलग महानगरपालिकाओने पहले ही दिन 100 करोड़ रुपए का बकाया टैक्स वसूल किया हैं. या कहलों लोगो ने खुदसे भर दिए है. वही दूसरी ओर सूरत महानगर पालिका मे लोगो ने 37.50 करोड रुपए बतौर बकाया टैक्स भर दिए हैं. दरअसल लोगों को यह समझ में नहीं आ रहा है कि अपनी पुरानी करेंसी का निपटारा कैसे करे. ऐसे में यह तमाम लोग महानगर पालिका ऑफिस में पहुंच कर अपना पैसा जमा करा रहे हैं. पालिका ओफिसीस भी बेजिजक पुराने नोट स्वीकार कर रहे है. इसका सीधा मतलब यह है कि लोगो के पास पैसे तो थे लेकिन वह भर नहीं रहे थे. बताओ अब इन लोगो को क्या कहे? थेन्क्स टु मोदीजी कि उन्होंने एसा मास्टर स्ट्रोक खेला है कि एक ही झटके मे चारों खाने चित.
Latest in --- 
अभी-अभी सरकारी विभाग ने जानकारी दी है कि महाराष्ट्र मे दो दिनो मे 340 करोड रुपए बतौर टैक्स इकट्ठा हुए है.. यह रहा विवराण. 
₹*340 crores in 2 days is record breaking r…